शिकवे शिकायत

शिकवे नंही तुझसे

अ ज़िन्दगी

और ना ही शिकायत

नाराजगी तो बस

खुद से है जो

ना हम सपने जी सके

और ना ही तुझे।

बचपन

बचपन की हर बात

छोड़ जाती है

दिल पर छाप

वो कुछ पलों का अहसास

चाहे बुरा हो या खास

जिंदगी सिमटकर रह जाती है

बस उसके ही आसपास ।

Smiling

(Some times your joy is the source of your smile,but some times your smile can be the source of your joy) Physically it’s been show that smiling can make us feel happy, even if we are forcing the smile deliberately. Regardless of the science, it makes sense to smile, whether we feel like it or […]

Smiling

Smiling

(Some times your joy is the source of your smile,but some times your smile can be the source of your joy)

Physically it’s been show that smiling can make us feel happy, even if we are forcing the smile deliberately.

Regardless of the science, it makes sense to smile, whether we feel like it or not. A Smile energizes our brain as well as our muscles. And we don’t want our face to settle into sadness. ~THICH NHAT HANH

Online classes

Covid 19 is such a word that every person has a fear in his heart that he may not get hit by it, for which he takes all kinds of precautions and because of this, all schools in the country are locked for a short time. A Lock Was applied. But now the point is that if the contact of the children is severed from their curriculum, then the children will go back instead of going forward. Keeping these things in mind, online arts were started. But not everyone in our country is so capable that to get their child online arts because the school is teaching online but not for free.For online classes, you have to pay school fees, then your child is able to take the school somewhere. But it does not just end here, along with school fees and books, now you have to spend extra on mobile data, WiFi and electricity bills. It is not possible for every parent, in some schools, if you are not able to fill up the fees on time, then your child will not be allowed to attend the school.Those parents who want to see their child on some place , independent and for which they work hard day and night, then how can they allow their child’s education to be interrupted, for which they also spend their entire accumulated capital but perhaps all these things does not matter to our government .

(हिंदी)

कोविड 19 एक ऐसा शब्द जिसे सुनकर हर व्यक्ति के दिल में एक डर बैठ जाता है कि कहीं वो उसकी चपेट में न आ जाए।जिसके लिए वो हर तरह की एहतियात बरतता है और इसी वजह से देश के सभी स्कूलों पर थोड़े समय के लिए ताला लगाया गया।पर अब बात यह आई कि अगर बच्चों का सम्पर्क उनके पाठ्यक्रम से टूट गया तो बच्चे आगे जाने की बजाय पीछे चले जाएगें बस इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर आनलाइन कलासेस शुरु की गई ।पर हमारे देश का हर व्यक्ति इतना इतना समर्थ नहीं है कि वह अपने बच्चे को आनलाइन कलासेस दिलवा सके क्यूकिँ स्कूल आप को आनलाइन पढा तो रहे हैं परन्तु मुफ्त में नहीं ।आनलाइन कलासेस के लिए आपको स्कूल की फीस भरनी पड़ती है तब कहीं जाकर आपका बच्चा कलास ले पाता है।पर बात सिर्फ यहीं ख़त्म नहीं होती स्कूल फीस और किताबों के साथ साथ अब आपको मोबाइल डाटा, वाइफाइ और बिजली के बिल पर भी अतिरिक्त खर्च करना पड़ रहा है जो हर माता पिता के लिए सम्भव नहीं है कुछ स्कूलों में तो अगर आप समय पर फिस नहीं भर पाए तो आपके बच्चे को कलास में उपस्थित रहने की अनुमति ही नहीं दी जाएगी ।वे माता पिता जो अपने बच्चे को किसी मुकाम पर देखना चाहते हैं और जिसके लिए वे दिन रात मेहनत करते हैं तब वे कैसे अपने बच्चे की पढाई में रूकावट आने दे सकते हैं जिसके लिए वे अपनी पूरी जमा पूंजी भी खर्च कर देते है पर शायद हमारी सरकार को इन सब बातों से कोइ फर्क नहीं पड़ता ।

अतिरिक्त

COVID-19

On hearing Covid 19, there is a panic in the heart. Ever since Covid 19 has wreaked havoc all over the world, it has had a profound impact on people’s lives, no section of society has remained untouched by it . In order to control this, the Lockdown process was adopted in all the countries of the world and in all the states of the country and due to this Lockdown, a lot of lives were settled and wasted. On the other hand, isolated families were also seen breaking up.
While on the one hand, the men of the house stayed at home to find out how much work their wife did by staying at home, on the other hand some women suffered mental and physical abuse by their husbands. Many families had to lose their loved ones Everywhere, just because of the epidemic that every man is going to face, the financial system has completely deteriorated, which has an impact on every public life, this is the havoc of nature which every person needs to understand so that it can be in the future or nature. Do not interfere in the decisions related. Keep that in mind that your physical health and mental health are equally important. Do anything that makes you happy and you start thinking that you are living your life to the fullest. Nothing is impossible!
FIGHT AGAINST WRONG ,  HELP OTGERS & BE HAPPY…!!

कोरोना टाइम

कोविड 19 सुनते ही दिल में एक दहशत सी बैठ जाती है जब से पूरी दुनिया में कोविड 19 का कहर टूटा है तब से लोगों की जिंदगीयो पर इसका बहुत गहरा असर पड़ा है समाज का कोइ भी वर्ग इससे अछूता नहीं रहा । इसे नियंत्रित करने के लिए दुनिया के सभी देशों में और देश के सभी राज्यों में लोकडाउन पक्रिया को अपनाया गया और इस लोकडउन की वजह से ही काफी जिन्दंगिया आबाद भी हुई और बर्बाद भी ।एक तरफ जहां संयुक्त परिवार को एक दूसरे के साथ एक अच्छा समय व्यतित करते देखा गया वहीं दूसरी ओर एकाकी परिवार भी टूटते देखे गए।जहां एक तरफ घर के पुरुषों को घर पर रह कर ये पता लगा कि उनकी पत्नी घर पर रह कर कितना काम करती हैं वहीं दूसरी तरफ कुछ औरतों को अपने पति द्वारा मानसिक और शारीरिक शोषण झेलना पड़ा ।बहुत से परिवारों को अपने प्रियजनों को खोना पड़ा ।हर तरफ बस महामारी की मार जिसे हर आदमी को झेलना पड़ रहा है आर्थिक व्यवस्था पूरी तरह बिगड़ चुकी है जिसका असर हर जन जीवन पर पड़ है ये क़ुदरत का कहर है जिसे हर व्यक्ति को समझने की जरूरत है ताकि वह भविष्य में प्रकृति या उससे जुड़े निर्णयों में दखलअदांजी न करे ।